यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना | मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश योजना

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना |  यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना | निराश्रित बेसहारा गोवंश योजना उत्तर प्रदेश |  मुख्यमंत्री गोवंश योजना उत्तर प्रदेश | योगी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना यूपी | UP Mukhyamantri Besahara Govansh Sahbhagita Yojana Online

यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना | Besahara Govansh Yojana UP

UP Besahara Govansh Sahbhagita Yojana

नमस्कार मित्रों आज हम आपको उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना (UP Govansh sahbhagita yojana) की जानकारी लेकर आए हैं.प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना की शुरुआत की गई है. योजना निराश्रित गोवंश को सहारा देने के लिए शुरू की गई है. जैसे कि आप सब जानते हैं कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक पशु प्रेमी व्यक्ति हैं और गाय के प्रति उनका प्रेम और सेवा भाव किसी से छिपा नहीं है. अब सीएम योगी आदित्यनाथ यूपी मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश योजना(UP Besahara govansh sahbhagita yojana) लेकर आए हैं.

उत्तर प्रदेश गोवंश योजना क्या है | Uttar Pradesh Govansh Yojana

जहां एक तरफ इस यूपी गोवंश सहभागिता योजना (Govansh yojana up)से प्रदेश के बेसहारा गोवंश को सहारा मिलेगा वहीं दूसरी तरफ यूपी  गोवंश सहभागिता योजना से किसानों को और पशुपालकों को अतिरिक्त आय कमाने का साधन मिलेगा. 2012 की गाय मतगणना के अनुसार उत्तर प्रदेश में 205.66 लाख गोवंश है. ऐसे में इनके पालन व देख रेख की एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार पर है| यह इस Mukhyamantri nirashrit besahara Govansh Sahbhagita Yojana को शुरू करने का एक बहुत बड़ा कारण है. तो आइए जानते हैं यूपी गोवंश सहभागिता योजना  क्या है, और आप किस प्रकार से इस योजना का लाभ उठाकर अपनी आय में वृद्धि कर सकते हैं.

गोवंश सहभागिता योजना निराश्रित गोवंश के लिए वरदान

जैसा कि आपको पता है कि आज के समय में  गाय आदि पशुओं की दशा अत्यंत दयनीय हो चुकी है. अब पहले की भांति  लोग पशुपालन में अधिक दिलचस्पी नहीं लेते. और तो और आजकल लोग पाले हुए पशुओं को भी काम  ना आने पर आवारा छोड़ रहे हैं. ऐसा करने से एक तरफ से जहां गोवंश बेसहारा हो जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ इन आवारा छोड़े  पशुओं से किसानों की फसलों को भी नुकसान हो रहा है.

UP Besahara Govansh Sahbhagita Yojana

साथ ही इन बेसहारा पशुओं से आए दिन और रोड एक्सीडेंट की घटनाएं बढ़ रही है जिससे  राहगीरों के साथ-साथ इन पशुओं को भी चोट आने से दर्द सहना पड़ता है और इनका तो उपचार भी अच्छे से नहीं हो पाता. यही देखते मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी ने  यूपी सीएम निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना शुरू की है. इस योजना में बेसहारा गोवंश को सहारा देने वाले किसानों को सरकार पैसे देगी. जिससे किसानों को अतिरिक्त आय  कमाने का मौका मिलेगा. वही बेसहारा पशुओं को भी सहारा मिलेगा.

सीएम गोवंश सहभागिता योजना यूपी द्वारा आय

 यूपी गोवंश सहभागिता योजना द्वारा पशुओं को सहारा देने वाले किसानों को अतिरिक्त आय कमाने का अवसर मिलेगा. यदि मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना उत्तर प्रदेश के अंतर्गत कोई व्यक्ति किसी बेसहारा पशुओं को आश्रय देता है तो सरकार की तरफ से उसको पैसे दिए जाएंगे. मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश  सहभागिता योजना के अंतर्गत बेसहारा गोवंश पालने पर आपको प्रतिमाह ₹900 सरकार की तरफ से दिए जाएंगे.

यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना

यानी सीएम गोवंश सहभागिता योजना के अंतर्गत आपको गोवंश की देखभाल के लिए सरकार की तरफ से प्रत्येक दिन के ₹30 दिए जाएंगे. इस तरह से यदि आप 10 निराश्रित बेसहारा गोवंश का पालन करते हैं तो आपको महीने के ₹9000 दिए जाएंगे. इस प्रकार से जहां एक तरफ गोवंश की देखभाल होगी वही आपकी आय में भी वृद्धि होगी. 

किसान और निराश्रित पशुओं दोनों को मिलेगा लाभ

इस तरह से योगी सरकार की हो गोवंश योजना अपने आप में एक पंथ दो काज का एक उत्तम उदाहरण है. इस योजना से प्रदेश के लोग गोवंश पालन की ओर आकर्षित होंगे जिससे बेसहारा पशुओं को सहारा मिलेगा और साथ ही उनकी आय में वृद्धि होगी. जल्द ही सरकार यूपी सीएम गोवंश सौभाग्य योजना आवेदन प्रक्रिया शुरू कर देगी. मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सौभाग्य योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की जानकारी के लिए नीचे  पढ़ें. 

यूपी सीएम बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना ऑनलाइन आवेदन और रजिस्ट्रेशन 

UP Besahara Govansh Sahbhagita Yojana Regitration Form

जल्द ही योगी सरकार यूपी सीएम बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू करने जा रही है. इसके लिए सरकार ऑफलाइन के साथ ऑनलाइन अप्लाई करने की भी सुविधा दे सकती है.  प्रदेश के विभिन्न जिलों के डिस्टिक मजिस्ट्रेट द्वारा निराश्रित बेसहारा गोवंश योजना से जुड़ने के इच्छुक किसानों की सूची तैयार करेगा. इस यूपी सीएम बेसहारा गोवंश सौभाग्य योजना लिस्ट  जिन किसानों का नाम होगा वह किसान योजना का लाभ ले पाएंगे. यूपी मुख्यमंत्री बेसहारा गोवंश योजना फॉर्म कब भरे जाएंगे इसकी जानकारी जल्दी सरकार द्वारा जाएगी. 

सीएम  बेसहारा  गोवंश सहभागिता योजना यूपी की विशेषताएं और लाभ

  • यूपी सीएम गोवंश योजना मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी द्वारा प्रदेश के निराश्रित और बेसहारा गोवंश को आश्रय दिलवाने के लिए शुरू की गई है
  • 2012 की गाय मतगणना के अनुसार प्रदेश में 205.66 लाख गोवंश है जिनमें 10 से 12 लाख पशु बेसहारा व निराश्रित है. इन गोवंश ओं की देखभाल के लिए प्रदेश में 523 रजिस्टर्ड  गौशाला हैं और सरकार आगे भी गौशाला संख्या बढ़ाने का प्रयास प्रदेश में करेगी. परंतु फिर भी इतने अधिक पशुओं की देखभाल के लिए यह पर्याप्त नहीं है. इसलिए प्रदेश में मुख्यमंत्री निराश्रित बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना को शुरू किया गया है.
  • इस योजना के अंतर्गत 1 गोवंश पालन के लिए सरकार किसानों को प्रति माह ₹900 देगी जिससे किसानों  की आय में वृद्धि होगी.

यूपी बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना

  • गोवंश पालने पर किसानों को देखने के लिए सरकार के द्वारा पैसा दिया जाएगा इसलिए गोवंश पालन का बोझ किसान पर नहीं पड़ेगा उल्टा  किसान उनसे प्राप्त दूध आदि से अतिरिक्त कमाई कर सकता है.
  • प्रदेश सरकार ने गोवंश योजना के लिए 109.50  करोड रुपए क्या बजट तय किया है.
  • यूपी सीएम बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना के पहले चरण में एक बेसहारा गोवंश की देखरेख का जिम्मा प्रदेश के इच्छुक किसानों को दिया जाएगा.
  • किसानों का चयन प्रदेश के डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट द्वारा इच्छा को किसानों की सूची बनाकर किया जाएगा.
  • डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट ही गोवंश योजना को मॉनिटर करेंगे और यह सुनिश्चित करेंगे कि किसान अच्छे से गोवंश की देखभाल कर रहे हैं या नहीं.
  • डिस्टिक मजिस्ट्रेट की सहायता के लिए तहसील ब्लाक और जिला स्तर पर अलग-अलग कमेटियां बनाई जाएंगी.
  • गोवंश को देखरेख में लेने वाले किसानों को गोवंश बेचने की या उन्हें पुनः आवारा छोड़ने की अनुमति नहीं होगी.
  • ऐसा करने वाले किसानों को उचित दंड दिया जाएगा.
  • इस योजना से प्रदेश के बेसहारा गोवंश  को सहारा मिलेगा.

यूपी फ्री लैपटॉप योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *